मुस्लिम देश में हिंदू संत का मंदिर, भारत से पाकिस्तान कैसे पहुंचे परमहंस

0
9

परमहंस दयाल जी के माता-पिता पुजारी थे. जिनके सैकड़ो शिष्य थे. परमहंस दयाल जी अपने घर के इकलौता चिराग थे. सब कुछ अच्छा चल रहा था. लेकिन जब वह 5 से 6 वर्ष के हुए तभी उनके माता-पिता का स्वर्गवास हो गया.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें