लग्न हो या न हो.. फिर भी इस मंदिर में साल भर होती है शादी, नेपाल तक से आते….

0
2

मुख्य पुजारी कहते हैं कि यहां साल के बारहों महीने शादी होती है. मान्यता है कि यहां मां की ऐसी महिमा है की गुरु और शुक्र के अस्त होने पर भी लग्न का ध्यान रहता है. यहां शादी करने वाले जोड़े का दांपत्य जीवन सुखमय बीतता है. 

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें